Govt Jobs

जयपुर जिला दर्शन (Jaipur District Darshan)

जयपुर जिला दर्शन (Jaipur District Darshan) | Jaipur District GK in Hindi

राजस्थान जिला दर्शन | Jaipur District Darshan | जयपुर जिला दर्शन | राजस्थान जिला दर्शन उदयपुर | राजस्थान जिला दर्शन महत्वपूर्ण प्रश्न | जयपुर जिले के मेले | जयपुर जिले की सम्पूर्ण जानकारी | राजस्थान जिला दर्शन सभी प्रतियोगी परीक्षा हेतु महत्वपूर्ण | Jaipur District GK of Rajasthan | Jaipur Gk in Hindi | Jaipur State GK |

दोस्तों, राजस्थान सामान्य ज्ञान के अंतर्गत, अगर आप स्टडी करते हो तो आपको राजस्थान जिला दर्शन के बारे में जानकारी पता होनी अनिवार्य है. यहाँ पर हम राजस्थान जिला दर्शन (Rajasthan District Darshan) से सम्बन्धित जयपुर जिला दर्शन से जुड़े सभी छोटे बड़े प्रश्नों के बारे में तथा तथ्यों के बारे में अवगत करा रहे है.

अगर आप राजस्थान स्तर की किसी भी सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहे हो तो ऐसे में आपको राजस्थान जिला दर्शन के बारे में भी जानकारी होनी अनिवार्य है. आप चाहे पटवारी भर्ती, राजस्थान पुलिस कांस्टेबल भर्ती, कृषि पर्यवेक्षक भर्ती, फायरमैन पद पर भर्ती, ग्राम विकास अधिकारी भर्ती, राजस्थान रीट भर्ती, इत्यादि किसी भी पद के लिए तैयारी करते हो राजस्थान जिला दर्शन के बारे में आपके सामने एक या दो नंबर का प्रश्न जरुर आएगा. तो आइये जानते है जयपुर जिला दर्शन (Jaipur District Darshan) से जुड़े सभी छोटे बड़े प्रश्न और तथ्यों के बारे में:-

राजस्थान जिला दर्शन- जयपुर जिला दर्शन

  • जयपुर के उपनाम – पूर्व का पेरिस , सिटी आइसलैंड ऑफ़ ग्लोरी
  • जयपुर नगर का नक्शा किसने बनाया – विद्याधर भट्टाचार्य
  • जयपुर को गुलाबी रंग में किसने रंगवाया – रामसिंह द्वितीय
  • सवाई प्रताप सिंह द्वारा बनवाया जयपुर के हवामहल में कितनी मंजिल है – 5 मंजिल
  • राष्ट्रीय राजमार्गो की सर्वाधिक लम्बाई किस जिले में है – जयपुर
  • जयपुर को राजस्थान की राजधानी बनाने का सुझाव किसने दिया – सत्यनारायण समिति ने
  • जयपुर का औसत लिंगानुपात कितना है – 910
  • जयपुर में किस स्थान पर महाभारतकालीन मौर्य कालीन और गुप्तकालीन सभ्यताओं के अवशेष प्राप्त हुए – भाब्रु
  • जयपुर का कोनसा स्थान काळा संगमरमर के लिए प्रसिद्ध है – भैंसलाना
  • जयपुर का कोनसा स्थान बेल बुटो की सफाई के लिए प्रसिद्ध है – बगरू
  • जयपुर जिला जनसँख्या की दृष्टि से राजस्थान का सबसे बड़ा जिला है जिसकी जनसंख्या है – 66.63 लाख
  • जयपुर जिले में राजस्थान का सबसे बड़ा मछली उत्पादक बांध है – कानोता के निकट
  • दादू सम्रदाय की प्रमुख तीर्थ स्थान कहा है – नरेना , जयपुर
  • जयपुर में भवानी नाट्यशाला किस शैली में निर्मित है – पारशी शैली
  • भारत का प्रथम सुविकसित नगर किसे कहा जाता है – जयपुर
  • जयपुर के सिटी पैलेस को अन्य किस नाम से जाता है – चंद्र महल पैलेस
  • जयपुर के सिटी पैलेस में कुल कितनी मंजिले है – 7 मंजिले
  • भारत में खरे पानी की सबसे बड़ी झील कोनसी है – सांभर झील
  • भारत में ऐसी झील जिससे सर्वाधिक नमक का उत्पादन होता है – सांभर झील
  • राजस्थान की दूसरी बर्ड सेंचुरी कोनसी है – सांभर झील
  • जयपुर के इष्ट देवता गोविन्द देव जी का मंदिर किस उद्यान में है – जय निवास उद्यान
  • जयपुर की मोहनवाड़ी को किस अन्य नाम से भी जाना जाता है – केसर क्यारी के नाम से
  • सवाई रामसिंह द्वितीय द्वारा स्थापित अल्बर्ट म्यूज़ियम कहा है – रामनिवास उद्यान
  • राजस्थान का सबसे पुराना जंतुआलय कोनसा है – जयपुर जंतुआलय
  • राजस्थान का सबसे बड़ा जनुआलय कोनसा है – जयपुर जंतुआलय
  • देश का तीसरा बियर रेस्कूयु सेंटर कहा स्थापित किया गया है – नाहरगढ़ अभयारण्य
  • सांभर साल्ट लिमिटेड की स्थापना कब की गयी – 1964 में
  • जयपुर में स्तिथ बियरिंग बनाने वाली एशिया की सबसे बड़ी कम्पनी कोनसी है – नेशनल इंजीनियरिंग इंडस्ट्री
  • बिजली के मीटर का निर्माण जयपुर की किस कम्पनी में होता है – जयपुर मेटल्स
  • पानी के मीटर का निर्माण जयपुर की किस कम्पनी में होता है – कैप्सटन मीटर कम्पनी
  • राज्य के सबसे बड़े सोलर वाटर हीटर की स्थापना कहा की गयी है – बिरला इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी एंड साइंस
  • एशिया में मीटर गेज का सबसे बड़ा रेलवे यार्ड है – फुलेरा जंक्शन जयपुर
  • जयपुर में राजस्थान उच्च न्यायालय कब स्थापित किया गया – 29 अगस्त 1949
  • सर्वाधिक विधानसभा की सीटों वाला जिला कोनसा है – जयपुर

Read More:-

जयपुर में महत्वपूर्ण अकादमी – Jaipur District Darshan

  • राजस्थानी भाषा साहित्य अकादमी का मुख्यालय कहा है – जयपुर में
  • राजस्थान में प्रथम दुरदर्शन केंद्र की स्थापना कब और कहा की गयी – जयपुर में 1 मार्च 1977 को
  • राजस्थान का प्रथम स्टॉक एक्सचेंज कब और कहा स्थापित किया गया – जयपुर में 1989 को
  • इंदिरा गाँधी पंचायती राज एवं ग्रामीण विकास संस्थान कहा है – जयपुर में
  • सर्वाधिक विदेशी पर्यटक किस जिले में आते है – जयपुर में
  • राजस्थान बृज भाषा अकादमी की स्थापना जयपुर में कब की गयी – 1986 में
  • जयपुर में स्थापित चित्रकला संग्रहालय जिसका निर्माण सवाई जयसिंह ने करवाया था – पोथीखाना
  • राजस्थान संस्कृत अकादमी द्वारा संस्कृत भाषा का सर्वश्रेष्ठ कृति को कोनसा पुरस्कार दिया जाता है – माघ पुरस्कार
  • राजस्थान संस्कृत अकादमी जयपुर में कब स्थापित की गई – 1980
  • राजस्थान सिंधी अकादमी जयपुर में कब स्थापित की गई – 1979
  • गुरु नानक संस्थान जयपुर में कब स्थापित किया गया – 1969
  • राजस्थान हिंदी ग्रन्थ अकादमी की स्थापना जयपुर में कब की गई – 1968
  • राजस्थान संगीत संस्थान की स्थापना जयपुर में कब की गई – 1950
  • राजस्थान का सबसे पुराना महिला चिकित्सालय है – जनाना चिकित्सालय
  • महाराजा स्कूल ऑफ़ आर्ट्स एंड क्राफ्ट जो 1957 में स्थापित किया गया था उसको बाद में किस नाम से जाना जाता था – मदरसा ए हुनरी
  • मदरसा ए हुनरी को नया नाम महाराजा स्कूल ऑफ़ आर्ट्स एंड क्राफ्ट किसने दिया – महाराजा रामसिंह ने

जयपुर जिला दर्शन में महत्वपूर्ण तथ्य –

  • भारत की देशी रियासतों में खोला गया अंग्रेजो द्वारा पहला मेडिकल कॉलेज – जयपुर मेडिकल कॉलेज
  • निजी क्षेत्र का राज्य में पहला पशु विज्ञानं एवं चिकित्सा महाविद्यालय है – अपोलो कॉलेज ऑफ़ वेटरनरी मेडिसिन
  • राजस्थान का प्रथम संगीत महाविधालय कहा है – त्रिवेणी नगर जयपुर
  • विश्व का पहला होमियोपैथिक विश्वविद्यालय कहा खोला गया – जयपुर में
  • जयपुर के महाराजा स्कूल की स्थापना किसने की – महाराजा रामसिंह द्वितीय ने
  • राजस्थान विश्वविद्यालय का प्राचीन नाम क्या था – राजपुताना विश्वविद्यालय
  • राजस्थान राज्य पाठ्यपुस्तक मंडल की स्थापना शिक्षा को बढ़ावा देने के उदेशय से जयपुर में कब की गई – 1976 को
  • पोर्ट्रेट पेंटिंग का सर्वाधिक विकास किस शैली में हुआ – जयपुर या ढूंढाड़ शैली में
  • जयपुर का ऐसा शासक जिसके दरबार में 50 से अधिक चित्रकार थे – महाराजा प्रताप सिंह
  • उनियारा शैली किस शैली की उपशैली है – जयपुर शैली की
  • जयपुर शैली के प्रमुख पशु कोनसे थे – घोड़ा, मोर
  • जयपुर शैली का प्रमुख वृक्ष कोनसा था – पीपल
  • तमाशा नमक लोककला जयपुर में किस शासक के काल में विकसित हुई – महाराजा प्रताप सिंह
  • भारत में कत्थक का सबसे प्राचीन घराना कोनसा है – जयपुर घराना
  • जयपुर घराने के प्रवर्तक माने जाते है – भानु जी
  • नकटी माता का मंदिर कहा है – जयपुर में
  • जयपुर का ऐसा मंदिर जिसकी श्री कृष्ण की काले पत्थर की मूर्ति है और माना जाता है की इसकी पूजा मीराबाई करती थी – जगत शिरोमणि मंदिर
  • आमेर से शासक मानसिंह प्रथम द्वारा किस देवी की मूर्ति को स्थापित किया गया – शीला देवी आमेर
  • श्रावण शुक्ल तृतिया को जयपुर में कोनसा त्यौहार मनाया जाता है – छोटी तीज
  • जयगढ़ दुर्ग का निर्माण किस शासक के द्वारा करवाया गया था – जयसिंह द्वितीय के द्वारा
  • जयगढ़ दुर्ग का निर्माण किस शिल्पी के निर्देशन में हुआ था – विद्याधर भट्टाचार्य
  • एशिया की सबसे बड़ी तोप – जयबाण तोप

जयपुर जिला दर्शन में महत्वपूर्ण तथ्य –

  • जयबाण तोप का निर्माण किसके द्वारा करवाया गया था – सवाई जयसिंह ने
  • जयबाण तोप की मार्क क्षमता कितनी है – 22 मील
  • जयबाण तोप चलाने से गिरे गोले के कारण चाकसू में कोनसा तालाब बना – गोलेलाव तालाब
  • नाहरगढ़ दुर्ग का निर्माण किस शासक के द्वारा करवाया गया – सवाई जयसिंह द्वारा 1734 में
  • जयपुर के राजाओ की छतरियां कहा है – गैटोर में
  • नाहरगढ़ में किस देवता की छतरी है – नहर सिंह बाबा की
  • नाहरगढ़ को वर्तमान स्वरूप कब और किसने दिया – सवाई राम सिंह ने 1868 में
  • नाहरगढ़ दुर्ग का मूल नाम क्या है – सुलक्षणगढ़ दुर्ग
  • सवाई माधोसिंह की 9 प्रेमिकाओ के नाम पर एक जैसे नौ महलो का निर्माण किस किले में करवाया गया – नाहरगढ़ दुर्ग में
  • राजस्थान जिला दर्शन- जयपुर जिला दर्शन
  • आमेर से पहले जयपुर की राजधानी क्या थी – ढूंढाड़
  • ढूंढाड़ का प्राचीन नाम क्या था – अंबिकापुर
  • जयपुर की स्थापना कब और किसने की – 18 नवंबर 1727 को सवाई जयसिंह के द्वारा
  • जयपुर का विद्वान् , वैज्ञानिक शासक किसे कहा जाता है – सवाई जयसिंह को
  • जयपुर के कछवाह वंश द्वारा प्रचलित सिक्के किस नाम से जाने जाते है – झाड़शाही सिक्के
  • सी वी रमन ने जयपुर को किस नाम से पुकारा – आइसलैंड ऑफ़ ग्लोरी
  • जयपुर को सर्वप्रथम रेल सेवा से जोड़ने का श्रेय किस शासक को दिया जाता है – माधोसिंह द्वितीय को आगरा फोर्ट से बांदीकुई से 1874 में
  • ईसरलाट या सरगासूली का निर्माण किस राजा के द्वारा करवाया गया – सवाई ईश्वरी सिंह ने
  • गुणीजन खाना या संगीत के 22 कलाकार किसके शासन काल में थे – सवाई प्रताप सिंह
  • जयपुर में सती प्रथा पर प्रतिबंध कब लगाया गया था – 1844 ईस्वी में
  • राजस्थान में सबसे पहले लड़कियों के व्यापार पर रोक कहा लगाई गयी – जयपुर रियासत में 1847 में
  • जयपुर में जरी का काम किस राजा के समय शुरू हुआ – सवाई जयसिंह के समय
  • जयपुर में किस शैली के कपड़ो की छपाई प्रसिद्ध है – बगरू प्रिंट और सांगानेरी प्रिंट
  • जयपुर की ब्लू पॉटरी मुख़्यत किस देश देश की कला है – पर्शिया / ईरान
  • जयपुर में ब्लू पॉटरी के प्रसिद्ध कलाकार थे – कृपालसिंह शेखावत
  • जयपुर के भित्ति चित्र किस शैली में बनाये जाते है – आरायश / आलागीला पद्धति
  • जयपुर में चरखा संघ की स्थापना किसने की – 1927 में जमनालाल बजाज
  • राजपूताने में राष्ट्रीयता का जन्मदाता किसे माना जाता है – अर्जुनलाल सेठी
  • जैन शिक्षा सोसाइटी ( जैन वर्धमान विद्यालय ) कब और किसने स्थापित किया – 1964 में अर्जुनलाल सेठी ने

राजस्थान जिला दर्शन- Jaipur District Darshan

  • भारत के गवर्नर जनरल लार्ड होर्डिंग पर 1911 में बम फेकने का षड्ययंत्र किसके द्वारा तैयार किया गया – अर्जुनलाल सेठी
  • जयपुर के किस चित्रकार को नीड का चितेरा कहा जाता है – सौभागमल गहलोत
  • राजस्थान में फोटोग्राफी लाने का श्रेय किस शासक की दिया जाता है – रामसिंह द्वितीय को
  • राजस्थान में गधों का सबसे बड़ा मेला कहा लगता है – लुनियावास , जयपुर में
  • जयपुर के किस स्थान को मंकी वैली कहा जाता है – गलताजी
  • जयपुर के किस स्थान की बंदूके रियासती काल में प्रसिद्ध थी – माचेड़ी की बंदूके
  • अजमेर की स्थापना से पूर्व चौहानो की लम्बे समय तक राजधानी रहा – सांभर
  • जुलाहों का मंदिर किसे कहा जाता है – नारायणा , जयपुर
  • दादू पंथ की प्रमुख पीठ कहा है – नारायणा , जयपुर
  • संत दादू दयाल को किस वंश के शासको का प्रत्यक्ष संरक्षण प्राप्त था – खांगरोत शासक
  • राजस्थान जिला दर्शन PDF

राजस्थान जिला दर्शन पीडीएफ के लिए यहाँ क्लिक करे

FAQ:- जयपुर जिला दर्शन

1. जयपुर के उपनाम

पूर्व का पेरिस , सिटी आइसलैंड ऑफ़ ग्लोरी

2. जयपुर का क्षेत्रफल कितना है?

484.6 km²

3. जयपुर की स्थापना कब और किसने की थी?

18 नवम्बर 1727 , सवाई जयसिंह (द्वितीय) ने की

Rajasthan Forest Guard Recruitment 2022 | राजस्थान वनरक्षक सीधी भर्ती

Rajasthan Forest Guard Recruitment 2022 | राजस्थान वनरक्षक सीधी भर्ती | राजस्थान वनपाल वनरक्षक भर्ती 2021 | वनरक्षक भर्ती राजस्थान 2022 | Rajasthan Forest Guard Recruitment 2022:-

राजस्थान वन विभाग ने राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड के माध्यम से राज्य सरकार के अंतर्गत राजस्थान वनरक्षक सीधी भर्ती के लिए 1041 पदों पर Rajasthan Forest Guard Recruitment 2022 के लिए एक नोतिफ़िकतिओन प्रकाशित किया था. कई मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो, RSMSSB Forest Guard Bharti आवेदन प्रक्रिया पुनः स्टार्ट होने वाली है.

Rajasthan Forest Guard Recruitment 2022

Rajasthan Forest Guard Recruitment 2022 के लिए जो योग्य महिला पुरुष इच्छुक है, वो वन विभाग द्वारा निर्धारित शैक्षणिक योग्यता की पात्रता रखते हैं तो इसकी अंतिम तिथि तक राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड की ऑफिशियल वेबसाइट rsmssb.rajasthan.gov.in के माध्यम से Rajasthan Forest Guard Online Form के लिए अप्लाई कर सकते है.

Rajasthan Forest Guard Vacancy 2022 से जुड़ी पदों की संख्या, विभागीय अधिसूचना, आवेदन प्रक्रिया, चयन प्रक्रिया, शैक्षणिक योग्यता, अंतिम तिथि एवं अन्य जानकारी नीचे दिये गये तालिका/Table पर प्रस्तुत की गयी है. हमारे राजस्थान में RSMSSB Forest Guard Jobs 2022 की तलाश कर रहे प्रतिभाशाली लाभार्थी इस अवकर का अच्छा लाभ उठा सकते है. Rajasthan Forest Guard Recruitment से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी नीचे तालिका/सारणी में दी गयी है. आप इसे एक बार जरुर देखें.

RSMSSB Forest Guard Exam 2022 Notification

Rajasthan Forest Guard Bharti 2022 Details

विभाग का नामराजस्थान वन विभाग
भर्ती बोर्डराजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड
पद का नामवनरक्षक
कुल पद1041 पद
सैलरीविभागीय विज्ञापन देखें
लेवलराज्य स्तरीय
श्रेणीRajasthan Job
आवेदन प्रक्रियाऑनलाइन
शहरजयपुर
राज्यराजस्थान
देशभारत
राष्ट्रीयताभारतीय
आधिकारिक साइटrsmssb.rajasthan.gov.in

RSMSSB Forest Guard Post Details

पद का नामपदों की संख्या
वनरक्षक1041
कुल पद1041

Rajasthan Forest Guard Jobs Qualification

शैक्षिक योग्यता10वीं / 12वीं पास
आयु सीमा18 – 35
आयु में छूटमानदंडों के अनुसार
आयु कैलकुलेटरAge Calculator से मापन करे

Rajasthan Forest Guard Salary

मासिक वेतन:- राजस्थान वनरक्षक भर्ती के अंतर्गत जिन अभ्यर्थियों का चयन होगा, उन्हें राजस्थान सरकार द्वारा 7th Pay Commission (7वें वेतन आयोग) के आधार पर प्रतिमाह वेतन दिया जायेगा.

Rajasthan Forest Guard Application Fees

वर्ग का नामशुल्क
सामान्य
ओबीसी
एससी / एसटी

Rajasthan Forest Guard Important Date

अधिसूचना दिनांक11/11/2020
आवेदन शुरू तिथि
अंतिम तिथि
परीक्षा तिथि
स्थितिअधिसूचना जारी

How to fill Rajasthan Forest Guard Online Form

  • सर्वप्रथम नीचे दिये गये विभागीय विज्ञापन लिंक को क्लिक करके भर्ती से जुड़ी विस्तृत जानकारी को पढ़े.
  • उसके बाद, Online Form Link पर क्लिक करें.
  • इसके बाद, अधिकारिक वेबसाइट का मुख्य पेज खुलेगा.
  • मुख्य पेज पर Rajasthan Forest Guard Online Form लिंक पर क्लिक करें.
  • अब आपके सामने एक न्य पेज खुलेगा, जिसमें आपको आपना आवेदन फॉर्म भरना होगा.
  • फिर, राजस्थान वनरक्षक जॉब के लिए तय आवेदन शुल्क का भुगतान करे.
  • सबसे आखिर में, Submit पर क्लिक करने के बाद, RSMSSB Forest Guard Application Form 2022 का प्रिंट आउट निकल ले.

Sarkari Job Required Documents

सरकारी नौकरी के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • शैक्षणिक योग्यता प्रमाण पत्र
  • पहचान पत्र
  • जाति प्रमाण पत्र
  • निवास प्रमाण पत्र
  • जन्म तिथि प्रमाण पत्र
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • रोजगार पंजीयन प्रमाण पत्र

Rajasthan Forest Guard Selection Process

  • » शारीरिक मापदंड »
  • » शारीरिक दक्षता परीक्षा »
  • » लिखित परीक्षा »
  • » मेडिकल टेस्ट »
  • » दस्तावेज सत्यापन »

RSMSSB Forest Guard Jobs चयन प्रक्रिया की सम्पूर्ण जानकारी के लिए नीचे RSMSSB Official Notification को ध्यान देकर पढ़े और जाँच करे.

अधिसूचना / आवेदन फार्म

» न्यूज सोर्स »» अपडेट लिंक »
Cg Forest Guard JobsMp Forest Guard Bharti
Get More Info» New Emitra »

अति आवश्यक सूचना

अब से हम अपनी वेबसाइट पर राजस्थान सरकार द्वारा संचालित सभी प्रकार की सरकारी नौकरियों के बारे में भी आर्टिकल पब्लिश करेंगे. बता दे, New Emitra द्वारा किसी भी उम्मीदवार को जॉब ऑफर या जॉब सहायता के लिए संपर्क नहीं करते हैं. newemitra.com कभी भी जॉब्स के लिए किसी उम्मीदवार से शुल्क नहीं लेता है. कृपया फर्जी कॉल या ईमेल से सावधान रहें.

Rajasthan Shramik Durghatna Sahayata Yojana Apply

राजस्थान श्रमिक दुर्घटना सहायता योजना 2021 आवेदन पत्र PDF डाउनलोड | Rajasthan Shramik Durghatna Sahayata Yojana Apply

राजस्थान श्रमिक दुर्घटना सहायता योजना 2021:- दोस्तों, आज के समय में बाकि राज्य सरकारों की तरह राजस्थान सरकार अपने नागरिकों को बेहतर भविष्य देने और उनकों किसी दुविधा से लड़ने के लिए कई तरह की योजनाएं लाती रहती है. ऐसी ही एक Rajasthan Shramik Durghatna Sahayata Yojana Apply (राजस्थान श्रमिक दुर्घटना सहायता योजना 2021 आवेदन पत्र) योजना है.

इस योजना के अंतर्गत राजस्थान सरकार भवन श्रमिक कल्याण विभाग हिताधिकारी की आकस्मिक मृत्यु या सामान्य मृत्यु या दुर्घटना में मृत्यु या घायल होने की स्थिति में मृत्यु हो जाने पर 5 लाख रूपये तक की वित्तीय धनराशी सहायता के तौर पर पीड़ित के परिवार को मुआवजा के रूप में देती है.

Read More:- राजस्थान जाति प्रमाण पत्र ऑनलाइन आवेदन

राजस्थान श्रमिक दुर्घटना सहायता योजना क्या है?

राजस्थान श्रमिक दुर्घटना सहायता योजना राजस्थान सरकार द्वारा संचालित एक सरकारी योजना है. Rajasthan Shramik Durghatna Sahayata Yojana के लिए राज्य सरकार ने तीन अलग अलग योजनाएं चलाई हुई है जिनके नाम इस प्रकार है:- समूह बीमा (जनश्री बीमा) योजना, दुर्घटना में तत्काल सहायता योजना और मृत्यु की दशा में अनुग्रह भुगतान योजना.

राजस्थान सरकार द्वारा संचालित इन योजनाओं का मुख्य उद्देश्य श्रमिकों के परिवार को उनके साथ कोई भी हादसा (एक्सीडेंट) हो जाने के बाद वित्तीय सहायता प्रदान करना है. ताकि श्रमिक के परिवार को उनके घायल हो जाने की स्थिति में या दुर्घटना की स्थिति में पैसों की तंगी के कारण इधर उधर भटकना ना पड़े.

श्रमिक दुर्घटना सहायता योजना राजस्थान – जरूरी दस्तावेज़

  • आधार कार्ड
  • बैंक खाता पासबुक
  • भामशाह परिवार कार्ड या भामशाह नामांकन
  • लाभार्थी पंजीयन परिचय पत्र या कार्ड
  • दुर्घटना में घायल होने पर अस्पताल से Discharge Ticket
  • दुर्घटना में मृत्यु होने पर मुर्दाघर रिपोर्ट अथवा FIR की कॉपी
  • मृत्यु होने पर पंजीकृत प्राधिकारी द्वारा जारी मृत्यु प्रमाण-पत्र
  • श्रमिक जहां पर काम करता था वहां के नियोजक (Ampire) का प्रमाण-पत्र

राजस्थान श्रमिक दुर्घटना सहायता योजना आवेदन प्रक्रिया

निर्माण श्रमिक की सामान्य स्थिति में मृत्यु होने की दशा में या दुर्घटना की स्थिति में मृत्यु होने की दशा में या दुर्घटना में घायल होने की दशा में मुआवजा दिए जाने की स्थिति में भवन और अन्य संनिर्माण कर्मकार (नियोजन तथा सेवा की शर्तों का विनियमन) अधिनियम 1996 की धारा 22 (1) (क) सपठित राजस्थान नियम 2009 के नियम 57 व 58 के अंतर्गत यह योजना लागू होगी.

यह योजना मुख्यमंत्री का बहुत बड़ा कदम है. बता दे, इस योजना का नाम परिचय पत्रधारी निर्माण श्रमिकों या आश्रितों को नियमित रूप से अंशदान जमा करा पाने की स्थिति में प्राप्त हो सकेगा. Rajasthan Shramik Durghatna Sahayata Yojana का लाभ पाने के लिए राज्य सरकार ने कुछ पात्रता और शर्तें रखी है, जिन शर्तों को पूरा करके श्रमिक वित्तीय सहायता राशी को प्राप्त कर सकते है.

नोट:– राजस्थान श्रमिक दुर्घटना सहायता योजना 2021 आवेदन पत्र भरने के लिए आधिकारिक वेबसाइट https://labour.rajasthan.gov.in/ है. इस वेबसाइट का इस्तेमाल करके निर्माण श्रमिक सुलभ्य आवास योजना PDF Download कर सकते है. इस योजना से जुडी सम्पूर्ण जानकारी को प्राप्त करने एक लिए नीचे लिखे पूरे लेख को जरुर पढ़े.

Rajasthan Shramik Durghatna Sahayata Yojana Application Form PDF Download

Rajasthan Shramik Durghatna Sahayata Yojana (राजस्थान श्रमिक दुर्घटना सहायता योजना) का लाभ उठाने के श्रमिकों को आवेदन कैसे करना है, इससे जुडी जानकारी हमने यहाँ शेयर की हुई है:-

  • सर्वप्रथम आपको Building & Other Construction Workers Welfare Board, Rajasthan की ऑफिसियल वेबसाइट https://labour.rajasthan.gov.in/ पर विजिट करना होगा.
  • फिर होम पेज पर Download के तब में आपको Formats of Schemes को चुनकर उस पर क्लिक करना है.
राजस्थान श्रमिक दुर्घटना सहायता योजना
  • उस पेज पर जाने के लिए आप सीधा https://labour.rajasthan.gov.in/Documents/FormatsofSchemes.pdf लिंक पर क्लिक करे.
  • पीडीऍफ़ के Download होने के बाद राजस्थान श्रमिक दुर्घटना सहायता योजना एप्लिकेशन फॉर्म पीडीएफ़ का इंटरफ़ेस कुछ इस तरह से दिखाई देगा.
  • आप डाउनलोड एप्लीकेशन फॉर्म में सारी जानकारी ध्यानपूर्वक भरें.
  • फिर भरे हुए फॉर्म को बताये गए सभी आवश्यक दस्तावेजों के साथ अटेच करके स्थानीय श्रम कार्यालय या मंडल सचिव द्वारा अधिकृत अधिकारी के कार्यालय में जमा करवा दे.
  • लाभार्थी का फॉर्म अप्रूवल होने के बाद उसके बैंक अकाउंट में NEFT/RTGS के प्रोत्साहन राशि जमा करा दी जाएगी.

हिताधिकारी की सामान्य अथवा दुर्घटना में मृत्यु या घायल होने के दशा में सहायता योजना पात्रता

  • योजना के लिए 18 से 60 वर्ष के निर्माण श्रमिक पात्र होंगे.
  • जो निर्माण श्रमिक अपना अंशदान नियमित रूप से जमा करवा रहे है और उनका धारा 12 के अंतर्गत मंडल में पंजीयन हो चुका है. उनका हिताधिकारी की सामान्य अथवा दुर्घटना की स्थिति में मृत्यु या घायल होने के दशा में, नियमित अंशदान जमा कराने की समय सीमा के 3 माह अन्तराल में सहायता राशि सौंप दी जाएगी. (अधिसूचना दिनांक 21.09.2015 द्वारा संशोधित)

उत्तराधिकारी

  • हिताधिकारी निर्माण श्रमिक द्वारा अधिनियम के अन्तर्गत उत्तराधिकारी के तौर पर राजस्थान नियमों के अनुसार निर्देशित किया गया नामिती या फिर नामिती नहीं होने की स्थिति में उसका पति / पत्नी तथा इनके नहीं होने पर अवयस्क पुत्र या अविवाहित पुत्रियाँ.
  • अगर कोई श्रमिक अविवाहित है और जिनके पति / पत्नी या पुत्री / पुत्र नहीं हो तो ऐसी स्थिति में उत्तराधिकारी उसके माता-पिता को समझा जायेगा.

राजस्थान श्रमिक दुर्घटना सहायता योजना के अंतर्गत सहायता राशि

Rajasthan Shramik Durghatna Sahayata Yojana के अंतर्गत, निर्माण श्रमिक की सामान्य मृत्यु अथवा दुर्घटना में मृत्यु या घायल होने की दशा में मृत्यु होने पर देय सहायता राशि निम्नानुसार अर्जित की जाएगी:-

  • किसी दुर्घटना में मृत्यु होने की स्थिति में 5,00,000 लाख रूपये दिए जायेंगे.
  • किसी दुर्घटना में स्थायी पूर्ण अपंगता होने की स्थिति में 3,00,000 लाख रूपये दिए जायेंगे. (स्थायी पूर्ण अपंगता में दुर्घटना के दौरान दो आँखें या दोनों हाथ या दोनों पांव से अक्षम होना)
  • किसी दुर्घटना में आंशिक स्थायी अपंगता होने की स्थिति में 1,00,000 लाख रूपये तक की देय राशि अनुमानित होगी. (स्थायी आंशिक अपंगता में दुर्घटना के दौरान एक हाथ या एक पांव का अक्षम होना)
  • किसी दुर्घटना में गंभीर रुप से घायल होने पर 20,000 हजार रूपये तक की सहायता राशि अनुमानित होगी. (दुर्घटना में गंभीर रुप से घायल होना कम से कम हिताधिकारी 5 दिन तक अस्पताल के रोगी घर में एडमिट रहे, अगर श्रमिक गंभीर रूप से घायल है तो इसका निर्धारण मेडिकल बोर्ड द्वारा जारी प्रमाण पत्र के आधार पर किया जायेगा)
  • किसी दुर्घटना में साधारण रूप से घायल होने पर 5000 हजार रूपये तक की सहायता राशि अनुमानित होगी. (श्रमिक 5 दिन से कम अवधि में ठीक होने पर)
  • अगर किसी निर्माण श्रमिक की सामान्य स्थिति में मृत्यु हो जाने पर 75,000 हजार रूपये की सहायता राशि प्रदान की जाएगी.

श्रमिक दुर्घटना सहायता योजना पंजीकरण की समय सीमा

  • श्रमिक के घायल होने के बाद अस्पताल से डिस्चार्ज होने से अधिकतम 6 माह के अन्तराल में.
  • श्रमिक की मृत्यु हो जाने पर मृत्यु की तारीख से अधिकतम 1 वर्ष.

Download Notification PDF – Rajasthan Shramik Durghatna Sahayata Yojana PDF Download

Helpline

Rajasthan Shramik Durghatna Sahayata Yojana से जुड़ी अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए श्रम विभाग राजस्थान की अधिकारिक वेबसाइट पर जा सकते हैं या Toll Free Number पर भी कॉल कर सकते हैं:-

  • टोल फ्री नंबर: 1800-1800-999
  • ई-मेल (E-mail id): bocw.raj@gmail.com
  • श्रमायुक्त: lab–comm–rj@nic.in
  • फैक्स (fax): +91- 141- 2450782